Diseases in Dairy Animals, Uncategorized

Black Quarter Disease in Cattle| Symptoms | Prevention | Treatment

पशुओं में होने वाले प्रमुख रोग एवं उनके उपचार

ब्लैक क्वार्टर रोग | Black Quarter Disease its Symptoms and Treatment

ब्लैक क्वार्टर (BQ) रोग जिसे लंगड़ा बुखार, कृष्णजंघा, लंगड़िया, एकटंगा, जहरबाद, आदि नामों से जाना जाता है पशुओं में होने वाले प्रमुख रोगों में से एक है|
यह एक जीवाणु जनित रोग है जो मुख्य रूप से बरसात के मौसम और बरसात के मौसम आने से 1-1 ½ महीने पहले होता है| इस रोग के फैलने के अधिक संभावना अप्रैल-जून महीने में होती है| यह बीमारी बछड़ों एवं युवा पशुओं में अधिकतर होती है|

ब्लैक क्वार्टर रोग के लक्षण | Symptoms of Black Quarter Disease

1. इस रोग में पशुओं में साधारण बुखार तथा पैरों एवं पीठ के मांस वाले भाग में सूजन आ जाती है जिससे पशुओं के पैरों में काफी दर्द होने लगता है और वे लंगडाकर चलने लगे हैं|
2. इस रोग से ग्रसित पशु बैठा रहता है अथवा सोया रहता है|
3. जिस स्थान पर सूजन रहती है बाद में वह सूजन ठंडा तथा दर्धीन होकर सड़ जाता है जिसे दबाने पर चर – चर की आवाज आती है |

ब्लैक क्वार्टर रोग के उपचार | Treatment of Black Quarter Disease

ब्लैक क्वार्टर रोग से बचाव हेतु नियमित टीकाकरण कराएँ | 4 माह से लेकर 3 वर्ष के सभी पशुओं को प्रतिवर्ष यह टीका मई के महीने में अवश्य लगवाना चाहिए |
सूजन वाले भाग में चीरा लगाकर 2% हाइड्रोजन पेरोक्साइड और पोटैशियम परमैंगनेट से ड्रेसिंग करना चाहिए|

ब्लैक क्वार्टर रोग से रोकथाम / बचाव | Prevention of Black Quarter Disease

1. पशुशाला को साफ़ रखें|
2. पशुओं को समय पर टीका लगवाएं |
3. बीमारी ग्रस्त पशुओं को अलग रखें|

ब्लैक क्वार्टर बीमारी के लक्षण प्रकट होने पर तुरंत नजदीक के पशुचिकत्सालय अथवा पशुचिकित्सक से संपर्क करें|

नीचे दिया गया विडियो जरुर देखें, विडियो देखकर ही आप इसके बारे में अच्छे से समझ पाएंगे
Image Source:

http://dairyknowledge.in

http://www.keywordsuggests.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *