Uncategorized

Jersey Cow in India (Dairy Farming में जर्सी गाय का महत्त्व)

भारतीय संस्कृति मे गाय का बहुत ही उच्च स्थान है | प्राचीन काल से ही यह भारत की अर्थव्यवस्था की रीढ़ रही है | आजकल भारत में भी विदेशी गाय बहुत ही लोकप्रिय हो रही हैं | वैसे तो दोस्तों हमे भारत मे कई नस्ल की गाय देखने को मिलती है और जर्सी गाय (Jersey cow) भी इन्ही नस्लों में से एक गाय है | जर्सी गाय भी उन्ही विदेशी गायों मे से एक गाय है | जर्सी गाय काले और भूरे रंग के मिश्रण मे पाई जाती है | दुनिया मे सर्वाधिक दूध देने वाली गायों मे HF गाय के बाद यह गाय दूसरे नंबर पर आती है |

मध्यम आकार के शरीर वाली यह गाय भारत के अधिकांश climate में एडजस्ट हो जाती है| इस गाय की रोग प्रतिरोध क्षमता भी अच्छी होती है और यह HF नस्ल की तुलना में अधिक तापमान सहन कर लेती है| दोस्तों आज हम आपको जर्सी गाय के बारे मे सारी जानकारी देंगे | आप यह भी जान पाएँगे की जर्सी गाय भारत मे किसानों की पहली पसंद क्यों बनी हुई है और इनका Dairy Farming मे ज्यादा इस्तेमाल क्यों होता है |

इसे भी पढ़ें – इन गायों से शुरू करें अपना डेयरी बिज़नेस और बने करोड़पति!

Jersey cow

Where Jersey Cow Came From?

दोस्तों असल मे जर्सी गाय Jersey देश से है जो France मे आता है लेकिन भारत मे कई सालों से रहने के कारण जर्सी गाय यहाँ के माहौल मे घुल-मिल सी गई हैं | इसलिए भारतीय गायों की नस्ल मे  जर्सी गाय को भी जोड़ा जाता है | जर्सी गायों को दूध उत्पादन के लिए बहुत ही अच्छा माना जाता है | जर्सी नस्ल की गाय अपने दूध की High Butterfat Content (उच्च मक्खन सामग्री) के लिए बहुत लोकप्रिय है |

Where Jersey Cows are Mostly Found(जर्सी गाय सबसे ज़्यादा कहाँ पाई जाती हैं)

जर्सी गाय मूल रूप से France में पाई जाती हैं क्योंकि यह सबसे पहले यहीं की एक Country से आई है जिसका नाम है Jersey और यह Country France मे है |

इसे भी पढ़ें – डेयरी फार्म खोलने के लिए सर्वश्रेष्ठ देसी गायें |

Jersey cow

इसे भी पढ़ें – Budget 2017-18: डेयरी और कृषि क्षेत्र के लिए क्यों ख़ास है यह बजट ?

Physical Characteristics of Jersey Cow(जर्सी गाय की शारीरिक विशेषताएँ)

Weight of Jersey Cow(जर्सी गाय का वज़न)

जर्सी गाय का वजन 400-500 किलोग्राम (880-1,1000 पौंड) तक हो सकता है ।

Color of Jersey Cow(जर्सी गाय का रंग)

जर्सी गाय की भूरे तथा लाल रंग की त्वचा होती है | इसकी प्रमुख पहचान इसका चौड़ा माथा, इसका रंग और बड़ी आँखें आदि हैं |

Height of Jersey Cow(जर्सी गाय की लम्बाई)

जर्सी गाय की औसत ऊंचाई 46 “(117 सेंटीमीटर) होती है और यह गाय अन्य गायों की तुलना मे थोड़ी छोटी होती हैं |

Amount of Milk Production by Jersey Cow(जर्सी गाय द्वारा दूध उत्पादन की मात्रा)

जर्सी गाय सामान्यतः प्रतिदिन 20-22 लीटर दूध देती है जो अन्य Dairy गायों की तुलना में बहुत अधिक है |

Jersey Cow Cross Breed

भारत मे जो जर्सी गाय पाई जाती हैं वो Pure Breed मे नहीं पाई जाती है | यहाँ जो जर्सी गाय मिलती हैं वो Mixed Breed की होती है जिसकी वजह से यह भारत के वातावरण मे Survive कर पाती हैं |

 Jersey Cow Maintenance (जर्सी गाय का रखरखाव)

जर्सी गाय के रखरखाव में और गायों की तुलना मे कम खर्च और समय लगता है | जर्सी गाय अन्य गायों की तुलना मे कम चारा खाती है और अन्य गायों की तुलना मे दूध का उत्पादन भी बहुत जल्दी करने लग जाती है |

Which Climate Suits Jersey Cow(कौन सा वातावरण जर्सी गाय के लिए अच्छा है)

जर्सी गाय वैसे तो ठंडे इलाकों मे ज्यादा पाई जाती हैं लेकिन यह अपने आप को मौसम के अनुसार ढाल लेती हैं, जिसकी वजह से यह गर्म वातावरण  के लिए भी अनुकूल बन जाती हैं और ठंडे वातावरण के लिए भी और यह गर्म स्थानों में भी बछड़े को जन्म दे सकती है |

Cost of Jersey Cow in India(भारत में जर्सी गाय की कीमत)

भारत मे जर्सी गाय अमूमन Rs.40,000 से Rs.60,000 के बीच मिल जाती है | इसकी कीमत और भी कई बातों पर निर्भर करती है जैसे की जर्सी गाय की दूध उत्पादन की क्षमता, उम्र और उसका स्वास्थ्य आदि | इन्ही बातों को ध्यान में रखकर ही कोई ख़रीदार इनकी सही कीमत का अनुमान लगा लेता है |

इसे भी पढ़ें – What is kamdhenu Dairy Scheme?

Benefits of Jersey Cow in Dairy Farm(Dairy Farming में जर्सी गाय के फायदे)

1. उच्च प्रजनन क्षमता – जर्सी गाय गर्म वातावरण  के लिए भी अनुकूल हैं और गर्म स्थानों में भी बछड़े को जन्म दे सकती है |

2. उच्च गुणवत्ता – इस नस्ल कि गाय उच्च गुणवत्ता के दूध के लिए जानी जाती है – अन्य डेयरी गायों की तुलना में जर्सी गाय के दूध में Fat और प्रोटीन की मात्रा अधिक पायी जाती  है |

3. कम चारे में अधिक उपज अन्य नस्लों की तुलना में यह गाय अधिक परिपक्व होती है मतलब की जर्सी गाय अन्य गायों की तुलना मे कम चारा खाती है और दूध का उत्पादन बहुत जल्दी करने लग जाती है | इसकी उपज दूसरी गायों से अधिक है, यह गाय सामान्यतः प्रतिदिन 20-22 लीटर दूध देती है |

4. मजबूत शारीरिक बनावट – जर्सी गाय के पैर बहुत मजबूत होते हैं जिससे इनमें लंगड़ापन होने का ख़तरा बहुत कम होता  हैं |

5. रोगों से लड़ने कि क्षमता – अन्य नस्लों की गायों की तुलना में इन गायों का स्वास्थ्य ज़्यादा बेहतर रहता है।  डेनमार्क में किए गए एक अध्ययन के अनुसार अन्य डेयरी नस्लों की तुलना में जर्सी गाय में कई रोगों के कम होने का ख़तरा  दिखा ।

Few interesting facts about the nature of Jersey Cows that set them apart from the other dairy breeds –

 

1- They are extremely curious – जर्सी गायों के अंदर किसी चीज़ को जानने की बहुत उत्सुकता पाई जाती है |

2- They are the Cutest Babies – जर्सी गायों के बच्चे अन्य गायों के बच्चों की तुलना में अधिक सुन्दर होते हैं |

3- They like playing with their tongues – जर्सी गायों को अपनी जीभ के साथ खेलना बहुत पसंद है |

4- They are Great Moms – जर्सी गाय अपने बच्चों का ध्यान बहुत ही अच्छे से रखती है और अपने बच्चों का पालन पोषण भी बहुत ही अच्छे से करती हैं जिस वजह से इन्हें एक बहुत ही अच्छी माँ भी कहा जाता है |

5- The Jersey bulls make up for their small size with attitude – जर्सी Bulls अपने रवैये के साथ-साथ अपने छोटे आकार के लिए भी काफी लोकप्रिय हैं |

6- They have the Most Stylish eyes – जर्सी गायों की आँखें बहुत ही सुंदर और लुभाने वाली होती हैं |

7- They can be the leaders of the herd – जर्सी गाय अपने झुंड के नेता भी हो सकते हैं |

8- They hang out in groups – जर्सी गायों को समूहों में ज़्यादा देखा जाता है |

 

अपनी अनेक खूबियों और किसानों के लिए आर्थिक रूप से फ़ायदेमंद होने के कारण यह गाय आजकल Dairy किसानों की पहली पसंद बनी हुई है |

 

यदि आप जानना चाहते हैं की किसानों के लिए जर्सी गाय फ़ायदेमंद क्यों है तो नीचे दी हुई video को ज़रूर देखें – 

Image Source :-

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *