Dairy Programs and Schemes

Rashtriya Gokul Mission Scheme For Protection and development of Indigenous Cattle

Rashtriya Gokul Mission Scheme (राष्ट्रीय गोकुल मिशन)

भारत में पिछले कई वर्षों के दौरान बढ़ी क्रॉस-ब्रीडिंग से स्थानीय अथवा देशी नस्ल की गायों पर संकट उत्पन्न हो गया है। इसलिए देशी नस्ल की गायों के संरक्षण और नस्ल सुधार को वैज्ञानिक ढ़ंग से बढ़ावा देने के उद्देश्य से भारत सरकार के कृषि मंत्रालय द्वारा राष्ट्रीय गोकुल मिशन (Rashtriya Gokul Mission) की शुरुआत की गई है।

इस मिशन के अंतर्गत गिर, साहिवाल, राठी, देवनी, थरपारकर, लाल सिंधी जैसी देशी नस्ल के पशुओं के Genetic character को उन्नत करने और इनके वंश की वृद्धि के प्रबंध किए जाएंगे जिससे देशी नस्ल की गायों का दुग्ध उत्पादन और उत्पादकता बढ़ाई जा सके और इसके द्वारा स्वस्थ और high Genetic Quality के बैल उपलब्ध हो सकें।

What is Rashtriya Gokul Mission?

राष्ट्रीय गोकुल मिशन

Rashtriya Gokul mission launched date

स्वदेशी नस्लों के संरक्षण और विकास को वैज्ञानिक विधि से प्रोत्साहित करने के उद्देश्य से भारत सरकार ने 28 जुलाई , 2014 को “राष्ट्रीय गोकुल मिशन” की शुरुवात की|

एकीकृत मवेशी विकास केंद्र (Integrated cattle development centres) जिसे “गोकुल ग्राम” नाम दिया गया है की स्थापना की भी इस मिशन में चर्चा है|

  • यह मिशन ‘राष्ट्रीय पशु प्रजनन एवं डेयरी विकास कार्यक्रम’ (NPBBDD: National Program for Bovine Breeding and Dairy Development) का हिस्सा है।

Rashtriya Gokul Mission Aims & Objectives

उद्देश्य

  1. देशी नस्लों का विकास और संरक्षण
  2. स्वदेशी पशुओं के नस्ल सुधार कार्यक्रम
  3. दूध उत्पादन और उत्पादकता में वृद्धि
  4. नस्ल सुधार कार्यक्रम शुरु करना ताकि Genetic improvement और पशुओं की संख्या में वृद्धि की जा सके
  5. रोग मुक्त उच्च आनुवंशिक बैलों का वितरण

Components of Gokul Gram Yojana:

इस योजना के तहत धन का आवंटन ऐसे किया जायेगा –

    • एकीकृत स्वदेशी पशु केंद्र (Integrated Indiginios Animal Center) जैसे गोकुल ग्राम की स्थापना की जाएगी
    • प्रजनन तंत्र में Field performance recording (एफपीआर) की स्थापना होगी
    • गोपालन Union (Breeders Society) की स्थापना की जाएगी
    • स्वदेशी Pure Breed पशुओं को रखने वाले किसानों को प्रोत्साहन दिया जायेगा



  • High genetic ability वाले रोगमुक्त सांडों का वितरण किया जायेगा
  • बछिया पालन कार्यक्रम, स्वदेशी नस्लों के लिए दुग्ध उत्पादन प्रतियोगिता का आयोजन. किसानों को पुरस्कार (गोपाल रत्न) दिया जायेगा
  • स्वदेशी पशु विकास कार्यक्रम संचालित करने वाले संस्थानों में काम करने वाले तकनीकी और गैर–तकनीकी लोगों के लिए प्रशिक्षण कार्यक्रम का आयोजन करना

What is Gokulgram? Rashtriya Gokul gram mission

गोकुलग्राम

देश में मवेशियों की स्वदेशी नस्ल के संरक्षण एवं विकास के उद्देश्य से राष्ट्रीय गोकुल मिशन के अंतर्गत एकीकृत स्वदेशी गौपशु केंद्र – “गोकुल ग्राम (Gokul gram)” की स्थापना की जाएगी|

गोकुल ग्राम की स्थापना पीपीपी मॉडल (PPP model) के तहत की जाएगी और इसकी स्थापना.

  • देशी प्रजनन इलाकों में
  • शहरी पशु आवास के लिए महानगरों के निकट की जाएगी.

गोकुल ग्राम किसानों के लिए प्रशिक्षण केंद्र में आधुनिक सुविधाएं प्रदान करेगा.




पशुओं को जीडी, टीबी और ब्रूसीलोसिं जैसी बीमारियों से बचाने के लिए नियमित जांच की जाएगी. इसके अलावा, गोकुल ग्राम में एक डिस्पेंसरी भी होगी

यह भी जानें: प्रमुख पशु रोगों और उनके उपचार के बारे में जानें (Know about Cattle Diseases Prevention and Treatment)

इस मिशन के बारे में ज्यादा जानने के लिए PDF फाइल डाउनलोड करें – Download Gokul gram PDF file

नीचे दिए गए विडियो में “राष्ट्रीय गोकुल मिशन”के बारे में संपूर्ण जानकारी दी गयी है, उस विडियो को देखकर ही आप इस मिशन के बारे में अच्छे से जाने पाएँगे
हमें support करें और इस पोस्ट को ज्यादा  से ज्यादा लोगों को share करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *