Indian Cow Breeds

Sahiwal Cow in India(Full Information in Hindi)

sahiwal-cow-in-india-full-iSahiwal Cow in India(Full Information) – दोस्तों आज हम आपको एक ऐसी गाय के बारे में जानकारी देंगे जिसे डेरी फार्मिंग में काफी इस्तेमाल किया जाता है | आज जिस गाय के बारे मे हम आपको बताएँगे उसका नाम है साहिवाल | इस पोस्ट में हम आपको इसकी विशेषताओं के बारे मे पूरी जानकारी देंगे | साथ ही साथ आपको यह भी बताएँगे की भारत में डेयरी फार्मिंग के लिए साहिवाल गाय क्यों पसंद की जाती हैं | तो दोस्तों यदि आप जानना चाहते हैं तो हमारे इस पोस्ट को पूरा पढ़ें |

इसे भी पढ़ें – Why Swinging Cow Brush is important in Dairy Farming?

Sahiwal Cow in India

आज यह भारत और पाकिस्तान में सबसे अच्छी डेयरी नस्लों की गाय में से एक गाय है । साहिवाल गाय को पंजाब में साहिवाल जिले से उत्पन्न हुई गाय माना जाता है | साहिवाल गाय को भारत में डेरी फार्मिंग के लिए सबसे उत्तम गाय माना जाता है क्योंकि यह गाय और गायों के मुकाबले ज़्यादा और प्रोटीन युक्त दूध देती है | किसानों को इनसे काफी आर्थिक लाभ मिल रहा है |

Where Sahiwal Cow Came From?

दोस्तों साहिवाल गाय को पंजाब में साहिवाल जिले से उत्पन्न हुई गाय माना जाता है |

इसे भी पढ़ें – गोरखपुर में 400 गायों की गौशाला चलाते हैं योगी आदित्यनाथ !

साहिवाल गाय की शारीरिक विशेषताएँ (Physical Characteristics of Sahiwal Cow in India) –

                sahiwal cow advantage in dairy farming

 

 

 

 

 

Characteristics of Sahiwal Cow in India (Height, Weight, Colour, etc) – 

  • गहरा शरीर , ढीली चमड़ी, छोटा सिर व छोटे सींग इस गाय की प्रमुख विशेषताएँ हैं |
  • साहिवाल गाय का शरीर लंबा और मांसल होता है तथा इनकी टाँगे छोटी होती है ।
  • इनका स्वभाव कुछ आलसी होता है तथा इसकी खाल चिकनी होती है ।
  • इनकी पुंछ पतली और छोटी होती है।
  • ढीली चमड़ी होने के कारण इसे लोग लोला भी कहते हैं |
  • नर गाय का वजन 450 से 500 किलो और मादा गाय का वजन 300-400 किलो तक हो सकता है |
  • नर साहिवाल के पीठ पर बड़ा कूबड़ होता है व इसकी ऊंचाई 136 सेमी तक हो सकती है
  • मादा कि ऊंचाई 120 सेमी के आसपास होती है ।
  • ये लाल और गहरे भूरे रंग की होती है |
  • कभी-कभी इनके शरीर पर सफेद चमकदार धब्बे भी होते हैं ।

  Amount of Milk Production by Sahiwal Cow (साहिवाल गाय द्वारा दूध उत्पादन की मात्रा)

sahiwal cow characteristics

  • यह गाय एक दिन में 10 से 16 लीटर तक दूध देती है |
  • अपने एक दूग्ध्काल के दौरान ये गायें औसतन 2270  लीटर दूध देती हैं |
  • इनके दूध में पर्याप्त वसा होता है तथा यह विदेशी गायों की तुलना में दूध कम देती हैं |
  • इनके रखरखाव  पर खर्च भी काफी कम होता है।
  • इसकी खूबियों और दूध की गुणवत्ता के चलते वैज्ञानिक इसे सबसे अच्छी देसी दुग्ध उत्पादक गाय मानते हैं।

इनकी कम होती संख्या से चिंतित वैज्ञानिक ब्रीडिंग के ज़रिए देसी गायों की नस्ल सुधार कर उन्हें साहीवाल में बदलने पर ज़ोर दे रहे हैं | जिसके तहत देसी गाय की पाँचवीं पीढ़ी पूर्णतः साहीवाल में बदलने में कामयाबी हासिल हुई है।

Which Climate Suits Sahiwal Cow(कौन से वातावरण में साहिवाल गाय रह सकती है)

यह गाय ज्यादा गर्म इलाकों में भी रह सकती हैं | इनका शरीर गर्मी, परजीवी और किलनी प्रतिरोधी होता है जिससे इसे पालने में अधिक मशक्कत नहीं करनी पड़ती है और डेरी किसानों को इसे पालने में बहुत फायदा होता है ।

इसे भी पढ़ें – Best Indian Milking Cow Breeds for Commercial Dairy Farming

Cost of Sahiwal Cow in India(भारत में जर्सी गाय की कीमत)

  • भारत मे साहिवाल गाय अमूमन Rs.40,000 से Rs.60,000 के बीच मिल जाती है |
  • इसकी कीमत और भी कई बातों पर निर्भर करती है जैसे की दूध उत्पादन की क्षमता, उम्र, स्वास्थ्य आदि |
  • इन्ही बातों को ध्यान में रखकर ही कोई ख़रीदार इनकी सही कीमत का अनुमान लगा लेता है |

Sahiwal Cow Maintenance (जर्सी गाय का रखरखाव)

  • इनके रखरखाव में और देसी गायों की तुलना में कम खर्चा होता है |
  • यह अन्य गायों की तुलना मे ज़्यादा दूध का उत्पादन करती है |
  • इनके दूध में अन्य गायों के मुकाबले ज़्यादा प्रोटीन और वसा पाया जाता है |

Sahiwal Cow Cross Breed in India

भारत मे जो साहिवाल गाय पाई जाती हैं वो Pure Breed मे नहीं पाई जाती है | यहाँ जो मिलती हैं वो Mixed Breed की होती है जिसकी वजह से यह भारत के वातावरण में बड़ी ही आसानी से Survive कर पाती हैं |

Other Benefits of Sahiwal Cow in Dairy Farm(Dairy Farming में साहिवाल गाय के फायदे)

1. उच्च दूध की पैदावार – साहिवाल गाय और देसी गायों के मुकाबले ज़्यादा दूध देती है |
2. प्रजनन की आसानी –साहिवाल गाय गर्म वातावरण में भी अच्छे से रह सकती हैं |
3. सूखा प्रतिरोधी
4. अच्छा स्वभाव अच्छी देखभाल करने पर ये कहीं भी रह सकती हैं ।

गर्मी सहने और उच्च दुग्ध उत्पादन के कारण इन्हें एशिया, अफ्रीका आदि देशों में भी निर्यात किया जाता है।

 

अपनी अनेक खूबियों के कारण यह गाय आजकल Dairy किसानों को बहुत पसंद आ रही है |

नीचे दी गई video को देखकर जानिए की क्यों साहिवाल नस्ल को माना गया है उत्तम ?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *